17 वीं शताब्दी के अज्ञात डच मास्टर.  अभी भी जीवन में रूपक के कई गुणों को एकत्र किया "Vanitas" – संपूर्ण सांसारिकता की अपूर्णता, जिसका एक नैतिक, उपचारात्मक अर्थ था: खोपड़ी, बुझी हुई मोमबत्ती,